सरिता भाभी की चुदाई

Saturday, 12 July 2008

सबसे पेहले मैं अपना परिचय देना चाहता हूँ आप सबको। मेरा नाम विजय अगर्वल है और मैं ह्यडएराबाद आंध्रा प्रदेश का रेहने वाला हूँ एक गॉव में हूँ और मेरी अभी तक शादी नही हुई है लंड का सीज़े 8 1/2 इंच है पक्का यक़ीन है जिसे भी मैने छोड़ा है वोह पूरा सटिसफ़िएड हुआ है नोव अबौत थे हेरीओने ओफ़ म्य स्टोरय। मेरी भाभी जिनकी उमर 24 साल की है काफ़ी सेक्सी है। उनका नाम सरिता है इतनी ख़ूबसूरत है की जो भी एक बार उन्हे देख ले बस दीवाना हो जाए। उनका फ़िगूरे एरफ़ेक्ट है याने की 36-26-36।
स्टोरय शुरू होती है अब।मेरी भैया की नयी नयी शादी हुई थी।भाभी को जब मैने पेहली बार देखा तब से ही मैं ये सोचने लगा थी की मैं उन्हे एक बार ज़रूर छोदुँगा और उनके नाम से मूट म,आरा करता था।ëादी के कुछ दीनो बाद ही भैया को ओफ़्फ़िसे के काम से 1 महीने क लिए अमेरिका जाना पड़ा।तब भैया ने बहभी को कहा की तू क्यूं परेशन होती है तेरी सभी ज़रूरतों को तेरा ये देवर पूरा करेगा। काश वो समझे होते की सभी ज़रूरतों को मैं पूरा कर दूँगा याने की भैए ने सोचा नही था की मैं उनकी वीफ़े को छोदुँगा। बस वोह दिन आया और भैया चले गाये अमेरिका।4-5 दिन बीत गाये अब भाभी को बर्दाश्त नही हो रहा था। मैं तो उन्हे छोड़ने का बहुत दीनो से प्लान बना रहा था। एक दिन मैं अपने रूम में सोया हुआ था की भाभी मुझे उठाने के लिए आई। मैं सिर्फ़ अपने उंडेर्वेआर में था।जब भाभी मुझे उताने के लिए आई तब उनकी नज़र मेरे ताने हुए लांद पेर पड़ी। मैं भी जान भुज कर वैसा ही पड़ा रहा।ख़ैर भाभी ने देखा और शरमकर चली गयी दिन भी यही हुआ अब मुझसे बर्दाश्त नही हो राह था।अगले दिन जब भाभी मुझे उठाने क लिए आई तब मैने उन्हे मेरे पास खिच लिया और उनके लिप्स पेर एक क़िसस जड़ दिया ।बहभी भी 8-10 दीनो से भूखी थी। उन्होने भी सहयोग किया। फिर मैने धीरे धीरे उनके चेहरे पेर से जाते हुए उनके गार्दन पेर क़िसस करना शुरू किया ।भाभी और गरम होती गयी मैने धीरे धीरे उनके गोलाईयों को दबाया और उनका ब्लौसे उतर दिया।
फिर उनकी साड़ी खोल दी अब भाभी सिर्फ़ ब्रा और पेटी कोआत में रेह गाय थी।मैं उनके लिप्स पेर क़िसस किए जा रहा था और उनके बूब्स को दबा रहा था।फिर मैने उनकी ब्रा भी खोल दी। अब उनके बड़े बड़ उभर मेरे सामने थे मैं पागल हुए जा रहा था। उसने आपने होत मेरे होत पे रख दिए और चूसने लगी और मारा कोक्क सहलने लगी मुज़े लगा मई सपना देख रहा हू उसने मेरे कपड़े उतरे मई भी नंगा हो गया फिर उसने मेरा लांद आपे मुह मे लेकेर चूसाना सुरू किया इससे पहले किसी औरत ने मेरा लांद नही चूस था माने कहा आआआाहा भाभी मााआज़ा आआरााहा है फिर वह मुज़े छोड़ने के लिए कहा और मेरे नीचे çगई मैं उसकी छूट पे लांद रख और धक्का मारा चतुत् बहुत ज़्यादा चूड़ी थी लांद एक बार मे पूरा चला गया उसके कहा आ-आ मज़ा आ गया ज़ोर से छोड़ो मई आपना 7 इंच का लांद पूरा बाहर निकालता वोह भी नीचे से धक्के मार रही थी और कह रही थी विज्जू ज़ोर से छोड़ो आआाहा आाआह मााज़ाअ आआराहा है फिर थोड़ी देर बाद हम दोनो ज़ेर गाये उसने मुज़े कमर से पकड़ लिया आओर कहा मेरे उप्पेर लेते रहो।
फिर क़रीब 30 मिनिट तक हम मस्ती करते रहे फिर उसने मेरा लांद अपने मुह मे लीयाया और चूसने लगी मई उसकी छूट मे उंगली दल केर मज़ा डेरहा था मई फिर तय्यार हो गया आब की बार उसने मुज़े कहा पिच्छे से छोड़ो मैने उससे कुत्ते की तरह से छोड़ा अबकी बार वोह जल्दी ज़र गई मेरा लांद अभी मस्त था मई उसे छोड़ रहा था मेरा पानी नही निकल रहता वोह कह रही थी बस विज्जू आब बस करो मेरी तंग दुख रही है मैने कहा थोड़ी देर बस मई धक्के मार रहा था वोह चिल्ला रही थी मेरी तंग गई मई छोड़ रहा उसका पानी निकल गया था इस लिए फ़ाकच फ़ाकच की आवाज़ आरही तिमाई उसेचोड़ रहा वोह कह šही थी बाआास बस्स्स्स आआआहा मई मााार जौंगिईई फिर मेरा पानी उसकी छूट मे निकल गया।फिर हम दोनो लेट गाये उसने कहा मैने भाभी की छूट का भूरता बना दिया। तुम्हारे भाई ने कभी ऐसा नही छोड़ा तक फिर मई उसे रोज़ छोड़ने लगा उसे दो बार का चस्का लग गया था।

0 comments:

Post a Comment

चिकामारी छलफल